Home / शिक्षाप्रद कहानियाँ (page 3)

शिक्षाप्रद कहानियाँ

सबसे कीमती

Hindi Motivational Story प्रेरणादायक हिंदी कहानी बहुत समय पहले जयपुर में राजा जयसिंह का शासन था। जयसिंह वीर औरविद्वान थे और वे दूसरे विद्वानों का भी समान करते थे। एक दिन सारे दरबारियों के सामने राजा ने पूछा- संसार में सबसे कीमती चीज क्या है?राजा के ऐसा पूछने पर सभी …

Read More »

शेखीबाश मक्खी

एक था जंगल। उस जंगल में एक शेर भोजन करके आराम कर रहा था। इतने में एक मक्खी उड़ती-उड़ती वहाँ आ पहुँची। शेर ने दो-तीन दिनों से स्नान नहीं किया था। इसलिए मक्खी शेर के कान के एकदम पास भिन-भिन-भिन करने लगी। शेर को बहुत मुश्किल से नींद आई थी। …

Read More »

प्रोत्साहन है जरुरी

हिंदी कहानी : किसी को मोटीवेट करना अच्छी बात होती उसी पर आधारित यह Story है. कमल ने एक बार विकास को उसके परिवार के साथ अपने घर खाने पर बुलाया। उसने विकास को अपने बेटे से मिलवाया। जब विकास ने उससे उसके शौकों के बारे में पूछा तो बच्चा …

Read More »

Father's Day

शांति स्वरूप जी आराम कुर्षी से टिके गुमसुम बैठे प्रेम आश्रम में हो रही Father’s Dayकी तैयारियों को देखरहे थे! पिता और मातÎ दिवस को आश्रेम वाले विशेष रूपसे मना कर यहां रहने वाले बुजुर्गो को सम्मान देते हैं और उनके प्रति आदर का भाव प्रकट करते हैं! अब तो …

Read More »

निर्देश का गुण

राजन और कमल दोनो भाई अपने परिवारों के साथ एक संयुक्त परिवार में रहते थे। हर पिता की तरह वे दोनो ही चाहते थे कि उनके बच्चे हर चीज में अव्वल रहें। लेकिन जाने क्या ऐसा था कि एक ही छत के नीचे रहने और एक ही तरह की सुख-सुविधाएं …

Read More »

क्या होता है हिंदी कहानियों से?

सीख देती हैं कहानियां बच्चे हों या बड़े, कहानियां(Story) सबको अच्छी लगती हैं। ये कल्पना की उड़ान भरने के लिए ही प्रेरित नहीं करती, हमें यथार्थ की समझ भी दे जाती हैं। इनमें उपदेश की कड़वाहट नहीं होती, लेकिन जीवन से जुड़ी हर सीख होती है। इसीलिए बचपन में सुनी गई …

Read More »

हाथ में किस्मत

एक लड़का था अरुण। उसे हर समय अपने जीवन से शिकायत रहती थी। बचपन आर्थिक तंगी में बीता था, इसलिए वह यह मान ही बैठा था कि उसके हाथ किस्मत वाली रेखा है ही नहीं। उसके दादा, जिन्होंने दुनिया देख रखी थी, वे अरुण की इस सोच से परेशान थे। …

Read More »

गलती का ढिंढ़ोरा

दो सहकमीर् थे। दोनों काम में अच्छे थे लेकिन बतार्व के मामले में एक-दूसरे से काफी भिन्न थे। पहला सहकमीर् जानता था कि उसकी गलतियां जबरन निकाली जाती हैं, इसलिए वह गलतियां निकालने वालों को बकशता नहीं था। वह ऐसे लोगों की गलतियां पकड़ने में जुटा रहता। कोई गलती पकड़ …

Read More »

Business कैसे करें?

बिजनेस में संयम अपिर्त ने पढ़़ाई पूरी करने के बाद नौकरी करने के बजाय खुद का बिजनेस शुरु करने की इच्छा घर वालों को बता दी थी और किसी को कोई ऐतराज त्ती नहीं था। उसने बिजनेस शुरु किया। कुछ समय बीता ही था कि उसका मन डोल गया। उसने …

Read More »

ख़ुशी का रहस्य

खुशी का रहस्यए क गांव में एक साधु रहते थे। बहुत ज्ञानी और शांतिप्रिय। दूर-दूर से लोग अपनी समस्याएं लेकर उनके पास आते थे। वे सभी की समस्याओं को बहुत धीरज के साथ सुनतेथे और बड़े प्रेम से उनका मार्गदशर्न करतेथे। उनके पास आने वाले लोग वापस जातेसमय खुद को …

Read More »