Home / Hindi Story / खुशियों का मौसम Hindi Kahani हिंदी कहानी

खुशियों का मौसम Hindi Kahani हिंदी कहानी

प्रेरणादायक हिंदी कहानी संग्रह | Hindi Kahani Story

Life Changing Hindi story. Motivation Kahani jinko padhne ke baad aapki Life Badal Jaaye. ऐसी कहानी जो आपको कुछ करने का जोश पैदा करें.

All Hindi Stories – अद्भुत कहानियां (Kahaniyan)

 achhikhabar hindi story

खुशियों का मौसम

छज्जू राम के दोस्त ने उससे कहा कि लोग ऐसा क्यूं कहते हैं कि पति और पतंग में कोई खास फर्क नहीं होता, परंतु मुझे समझ नहीं आ रहा कि पति और पतंग का क्या मेल हो सकता है। तुम्हें क्या लगता है, क्या ऐसा मुमकिन हो सकता है? छज्जू राम ने दोस्त से कहा कि जिसने भी यह बात कही है वो बिल्कुल ठीक है। छज्जू राम ने उसे समझाते हुए कहा कि यार पति और पतंग में फर्क इसलिये नहीं होता क्योंकि एक पत्नी का गुलाम होता है तो दूसरा डोर का, दोनों ही अपनी मर्जी से कुछ नहीं कर पाते। इतना मजेदार जवाब सुनकर छज्जू राम का दोस्त ठहाका मारकर जोर से हंसने लगा, परंतु अगले ही क्षण छज्जू राम की पत्नी ने अपनी कड़कती आवाज में कहा कि मैं सुबह से कितनी बार कह चुकी हूं कि आपको दोनों बेटियों के घर करवाचौथ के व्रत का समान देने जाना है, परंतु आप तो यहां बैठकर फालतू की गप्पें मारने में मस्त हैं। पत्नी की खुराक इतनी प्रभावशाली थी कि छज्जू राम जी अगले ही पल दोनों बेटियों के लिये तोहफे और मिठाइयों के डिब्बे उठाकर घर से निकल पड़े।

छज्जू राम की बड़ी बेटी एक किसान परिवार में रहती थी और छोटी बेटी की शादी एक कुम्हार परिवार में हुई थी। छज्जू राम जी पहले अपनी बड़ी बेटी के घर गये। हाल-चाल पूछने के बाद बड़ी बेटी ने अपने पिता से कहा कि इस बार हमारे सारे परिवार ने अच्छी फसल पैदा करने के लिये बहुत मेहनत की है। अब तो हम सभी एक ही प्रार्थना करते हैं कि हे भगवान! इस बार बरसात अच्छे से कर देना। एक बार यदि बरसात अच्छे से हो गई तो हम बहुत अच्छे पैसे कमा पायेंगे। बड़ी बेटी ने अपने पिता से भी प्रार्थना करने को कहा। कुछ देर बाद छज्जू राम जी छोटी बेटी के घर पहुंच गये। अपने पिता को देखते ही वो उनको उस जगह पर ले गई जहां उसके सारे परिवार ने ढेरों मिट्टी के बर्तन बना कर रखे हुए थे। बर्तन दिखाते हुए छोटी बेटी ने पिता से कहा कि अब तो आप भी हाथ जोड़कर दुआ करो कि इस मौसम में बरसात न हो। यदि बरसात हो गई तो हम बिल्कुल बर्बाद हो जायेंगे। हमारे बनाये हुए ये सभी बर्तन बेकार हो जायेंगे। छोटी बेटी की बातें सुनकर छज्जू राम जी बड़ी परेशानी में आ गये। उन्हें समझ नहीं आ रहा था कि किस बेटी के लिये भगवान से प्रार्थना की जाये। इसी उधेड़-बुन में वो अपने घर पहुंच गये।

अपने पति को इस तरह दुःखी देखकर छज्जू राम की पत्नी ने इसका कारण पूछा। सारा प्रसंग सुनने के बाद श्रीमती जी ने कहा कि इसमें इतना घबराने की क्या बात है। इतना तो आप भी जानते हैं कि किसी भी व्यक्ति का जीवन बिना समस्याओं के नहीं होता, परंतु हमें अपने ऊपर यह विश्वास रखना चाहिये कि हर समस्या का कोई-न-कोई समाधान भी होता है। छज्जू राम ने चिढ़ते हुए कहा कि यदि मैं बड़ी बेटी के हक में प्रार्थना करता हूं तो छोटी का नुकसान होता है। यदि छोटी बेटी के पक्ष में भगवान से विनती करता हूं तो बड़ी का घर डूब जायेगा। छज्जू राम की पत्नी ने कहा कि मैं तो आपको बहुत समझदार समझती थी, लेकिन आप तो इतनी छोटी-सी बात से घबरा गये। एक बात का ध्यान रखो कि समस्याएं, चिंताएं कभी भी एक समान नहीं रहतीं, कभी ये जिंदगी-भर की तो कभी ये केवल क्षण-भर की होती हैं। तुम्हारी भी यह समस्या क्षण-भर से अधिक की नहीं है। पत्नी के अंदर इतना आत्मविश्वास देखकर छज्जू राम जी ने कहा कि अच्छा तुम ही बताओ कि मुझे क्या करना चाहिये। उनकी बीवी ने कहा कि तुम्हें कुछ नहीं करना। आप सिर्फ मेरी दोनों बेटियों से टेलीफोन पर बात करवा दो।

श्रीमती जी ने पहले बड़ी बेटी से बात की और उसे छज्जू राम जी की परेशानी बताई। यह बात सुनकर वो भी चिंता में डूब गई। छज्जू राम जी की पत्नी ने उससे कहा कि किसी समस्या के बारे में चिंता करने से उस परेशानी का हल नहीं मिलता। बड़ी बेटी को अच्छे से विश्वास में लेकर छज्जू राम की पत्नी ने कहा कि तुम वादा करो यदि बरसात अच्छे से हो गई तो फसल से होने वाले मुनाफे में से आधा अपनी छोटी बहन को दोगी। यही बात श्रीमती जी ने अपनी छोटी बेटी से भी की। उससे भी यह वादा लिया कि यदि बरसात ना हुई और उनके बर्तन अच्छी कीमत पर बिक जाते हैं तो उस लाभ में से आधा अपनी बड़ी बहन को दे दोगी। दोनों बहनों ने यह सुझाव खुशी-खुशी स्वीकार कर लिया। छज्जू राम जी अपनी पत्नी की इस अद्भुत प्रतिभा को देखकर आश्चर्यचकित रह गये। श्रीमती जी ने कहा कि मैंने कोई करिश्मा नहीं किया, समस्या चाहे कोई भी हो मिल-जुलकर और परस्पर विचार-विमर्श करने से हर तकलीफ का हल मिल जाता है। इस प्रसंग को देखने के बाद जौली अंकल खुशी-खुशी यह कबूल करते हैं कि जिस प्रकार एक दीपक हजारों दीपकां को रौशन कर सकता है, परंतु इससे दीपक का जीवन कम नहीं होता। इसी तरह मिल-जुलकर खुशियां बांटने से कम नहीं होतीं बल्कि हर मौसम को खुशियों का मौसम बना देती हैं।

एक सच्ची खुशी से खुशी पाने वाला मालामाल हो जाता है, परंतु खुशी देने वाले को कोई कमी नहीं होती।

बच्चों की कहानियाँ, kid’s stories, stories for children

हिंदी स्टोरीज – कहानी | हिंदी कथा-कहानी

Hinglish me Hindi Story –

Khaushiyon Ka Mausam

 

Chhajju Ram Ke Dost Ne Usese Kaha Ki Log Aesa Kyoun Kahte Hain Ki Pati Aur Patng Me Koi Khas Phark Nahin Hota, Parntu Mujhe Smajh Nahin Aa Raha Ki Pati Aur Patng Ka Kya Mel Ho Skata Hai. Tumhen Kya Lgata Hai, Kya Aesa Mumakin Ho Skata Hai? Chhajju Ram Ne Dost Se Kaha Ki Jisane Bhi Yah Baat Kahi Hai Vo Bilkul Thik Hai. Chhajju Ram Ne Use Smajhate Hue Kaha Ki Yar Pati Aur Patng Me Phark Isaliye Nahin Hota Kyonki Ek Patni Ka Gulam Hota Hai To Dusra Dor Ka, Dono Hi Apni Marji Se Kuch Nahin Kar Paate. Itana Majedar Javab Sunkar Chhajju Ram Ka Dost Thahaka Markar Jor Se Hnsane Laga, Parntu Agale Hi Kshan Chhajju Ram Ki Patni Ne Apni Kadkati Aavaj Me Kaha Ki Main Subah Se Kitani Bar Kah Chuki Hun Ki Aapko Dono Betaiyon Ke Ghar Karvachauth Ke Vrat Ka Samaan Dene Jana Hai, Parntu Aap To Yahan Baithkar Falatu Ki Gappen Marane Me Mast Hain. Patni Ki Khaurak Itani Prabhavashali Thi Ki Chhajju Ram Ji Agale Hi Pal Dono Betaiyon Ke Liye Tohafe Aur Mithaaiyon Ke Dibbe Uthaakar Ghar Se Nikal Pade.

Best Moral Stories In Hindi

Chhajju Ram Ki Badi Beti Ek Kisan Family Me Rahti Thi Aur Chhoti Beti Ki Shadi Ek Kumhar Family Me Hui Thi. Chhajju Ram Ji Pehle Apni Badi Beti Ke Ghar Gaye. Hal-Chal Puchhane Ke Bad Badi Beti Ne Apne Pita Se Kaha Ki Is Bar Humare Sare Family Ne Acchi Fasal Paida Karne Ke Liye Bahut Mehnat Ki Hai. Ab To Hum Sabhi Ek Hi Prarthana Karte Hain Ki He Bhagwan! Is Bar Barsat Acche Se Kar Dena. Ek Bar Yadi Barsat Acche Se Ho Gai To Hum Bahut Acche Paise Kama Paayenge. Badi Beti Ne Apne Pita Se Bhi Prarthana Karne Ko Kaha. Kuch Der Bad Chhajju Ram Ji Chhoti Beti Ke Ghar Pahunch Gaye. Apne Pita Ko Dekhate Hi Vo Unako Us Jgah Par Le Gai Jahan Uske Sare Family Ne Dheron Mitti Ke Bartan Bana Kar Rakhe Hue The. Bartan Dikhate Hue Chhoti Beti Ne Pita Se Kaha Ki Ab To Aap Bhi Hath Jodkar Duaa Karo Ki Is Mausam Me Barsat N Ho. Yadi Barsat Ho Gai To Hum Bilkul Barbad Ho Jayenge. Humare Banaye Hue Ye Sabhi Bartan Bekar Ho Jayenge. Chhoti Beti Ki Baaten Sunkar Chhajju Ram Ji Badi Pareshani Me Aa Gaye. Unhen Smajh Nahin Aa Raha Tha Ki Kis Beti Ke Liye Bhagwan Se Prarthana Ki Jaye. Isi Udhed-Bun Me Vo Apne Ghar Pahunch Gaye.

Intelligent king story in hindi

 

Apne Pati Ko Is Tarh Dukhi Dekhakar Chhajju Ram Ki Patni Ne Iska Karan Puchha. Sara Prasng Sunne Ke Bad Shrimati Ji Ne Kaha Ki Isamen Itana Ghabrane Ki Kya Baat Hai. Itana To Aap Bhi Janate Hain Ki Kisi Bhi Vyakti Ka Life Bina Problemon Ke Nahin Hota, Parntu Humen Apne Upar Yah Vishvas Rkhana Chahiye Ki Har Problem Ka Koen-Koi Samadhan Bhi Hota Hai. Chhajju Ram Ne Chidhte Hue Kaha Ki Yadi Main Badi Beti Ke Hak Me Prarthana Karta Hun To Chhoti Ka Nukasan Hota Hai. Yadi Chhoti Beti Ke Paksha Me Bhagwan Se Vinati Karta Hun To Badi Ka Ghar Dub Jayega. Chhajju Ram Ki Patni Ne Kaha Ki Main To Aapko Bahut Samjhdaar Smajhti Thi, Lekin Aap To Itani Chhoti-Si Baat Se Ghabra Gaye. Ek Baat Ka Dhyan Rakho Ki Problems, Chintaen Kabhi Bhi Ek Samaan Nahin Rahtin, Kabhi Ye Zindagi-Bhar Ki To Kabhi Ye Keval Kshan-Bhar Ki Hoti Hain. Tumhari Bhi Yah Problem Kshan-Bhar Se Adhik Ki Nahin Hai. Patni Ke Andar Itana Aatmavishvas Dekhakar Chhajju Ram Ji Ne Kaha Ki Accha Tum Hi Batao Ki Mujhe Kya Karna Chahiye. Unaki Bivi Ne Kaha Ki Tumhen Kuch Nahin Karna. Aap Sirf Meri Dono Betaiyon Se Telephone Par Baat Karva Do.

Hindi Stories विश्व की सर्वश्रेष्ठ प्रेरक कहानियां

 

Shrimati Ji Ne Pehle Badi Beti Se Baat Ki Aur Use Chhajju Ram Ji Ki Pareshani Batai. Yah Baat Sunkar Vo Bhi Chinta Me Dub Gai. Chhajju Ram Ji Ki Patni Ne Usese Kaha Ki Kisi Problem Ke Bare Me Chinta Karne Se Us Pareshani Ka Hal Nahin Milata. Badi Beti Ko Acche Se Vishvas Me Lekar Chhajju Ram Ki Patni Ne Kaha Ki Tum Vada Karo Yadi Barsat Acche Se Ho Gai To Fasal Se Hone Vale Munafe Me Se Aadha Apni Chhoti Bahn Ko Dogi. Yahi Baat Shrimati Ji Ne Apni Chhoti Beti Se Bhi Ki. Usese Bhi Yah Vada Liya Ki Yadi Barsat Na Hui Aur Unake Bartan Acchi Kimat Par Bik Jate Hain To Us Labh Me Se Aadha Apni Badi Bahn Ko De Dogi. Dono Bahno Ne Yah Sujhav Khaushi-Khaushi Svikar Kar Liya. Chhajju Ram Ji Apni Patni Ki Is Adbhut Pratibha Ko Dekhakar Surprised Rah Gaye. Shrimati Ji Ne Kaha Ki Maine Koi Karishma Nahin Kiya, Problem Chahe Koi Bhi Ho Mil-Julkar Aur Parspar Vichar-Vimarsh Karne Se Har Tkalif Ka Hal Mil Jata Hai. Is Prasng Ko Dekhane Ke Bad Jauli Ankal Khaushi-Khaushi Yah Kabul Karte Hain Ki Jis Prkar Ek Dipak Hajaron Dipkan Ko Raushan Kar Skata Hai, Parntu Isse Dipak Ka Life Kam Nahin Hota. Isi Tarh Mil-Julkar Khaushiyan Bantane Se Kam Nahin Hotin Balki Har Mausam Ko Khaushiyon Ka Mausam Bana Deti Hain.

Hindi Stories – hindi kahaniya

Ek Sacchchi Khaushi Se Khaushi Paane Vala Malamal Ho Jata Hai, Parntu Khaushi Dene Vale Ko Koi Kami Nahin Hoti.

Hindi Kahani Padhne Ki Website Par aap Bahu saari hindi Kahani Padh Sakte hai.

In Hindi story ko bhi jarur padhe –

  1. लगन है जरुरी : Hindi Personal Development Story
  2. नजरिया हो खास : हिंदी कहानी
  3. देखें अपने गुण : Hindi Motivational Kahani
  4. जितने का तरीका
  5. अच्छीखबर
  6. एक हिंदी कहानी जो देती आपको शिक्षा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *