Home / Hindi Story / पूजा के फूल हिंदी कहानी Hindi Motivational Story

पूजा के फूल हिंदी कहानी Hindi Motivational Story

पूजा के फूल

Hindi Motivational Story on Mother and Son. Best motivational life story for kids and children. माँ बेटी की कहानी जो आपको शिक्षा देगी.

मां ने अपने बेटे अमन को बड़े ही प्यार से उठाकर, उसे उसके जन्मदिन की मुबारकबाद देते हुए कहा कि अब जल्दी से उठ जाओ, देखो सूरज निकल आया है। अमन ने मां से कहा कि आपको सूरज के जल्दी निकलने का तो मालूम है लेकिन आप शायद यह नहीं जानतीं कि वो सोता भी तो मुझसे पहले है। बेटा, आज घर में तेरे जन्मदिन की पूजा रखवाई है। तू जल्दी से नहाकर मुझे पूजा के फूल ला दे। अमन ने मसखरी करते हुए पूछा कि मां कौन-सी पूजा के फूल चाहिये, पूजा बेदी के या पूजा भट्ट के। मां को थोड़ा तल्ख होते हुए कहना पड़ा कि हर समय मज़ाक अच्छा नहीं लगता। तू सामने वाले पार्क से अच्छे-अच्छे फूल तोड़कर ला दे, लेकिन एक बात का ध्यान रखना कि कालोनी के प्रधान वहां ना बैठे हां। मां अगर बैठे भी हों, तो हमें क्या फर्क पड़ता है, यह पार्क कोई उनका निजी तो है नहीं।

achhikhabar hindi story

Motivational Hindi Story for Life Change.

मां ने बेटे को समझाया कि यह बात नहीं है। असल में सारे बाग-बगीचे की देखरेख प्रधान जी ही करते हैं। वो हर पौधे को अपने बच्चों की तरह संभालकर पालते हैं। इसलिये जब कोई फूल तोड़ता है तो उन्हें बहुत तकलीफ होती है। फिर अगर वो पार्क में बैठे हां तो मैं फूल कैसे तोड़ूंगा, बेटे ने पूछा? मां ने कहा, ‘तू उन्हें किसी बहाने से पार्क के बाहर भेज देना।’ कुछ देर बाद जब अमन पार्क में फूल तोड़ने के लिये पहुंचा तो उसने देखा कि प्रधान जी सामने बैंच पर बैठे हुए हैं। अमन ने होशियारी दिखाते हुए कहा कि अंकल आपको घर में बुला रहे हैं। प्रधान अंकल जल्दी से अपने घर की ओर चले गये। अमन ने पार्क से अच्छे-अच्छे ढेर सारे फूल तोड़कर अपना थैला भर लिया, घर आते ही इतने खुशबूदार फूल देखकर अमन की मम्मी बहुत खुश हुई। अमन का ध्यान जैसे ही सामने पड़े लड्डुओं के थाल की ओर गया तो उसने उसमें से झट एक लड्डू उठा लिया। उसकी मम्मी ने कहा कि बेटा यह क्या कर रहे हो, यह तो प्रसाद है। अगर तुमने यह झूठा कर दिया तो भगवान जी नाराज हो जायेंगे। अमन ने पूछा, लेकिन भगवान को कैसे मालूम पड़ेगा कि मैंने प्रसाद के थाल में से एक लड्डू खा लिया है। मम्मी ने प्यार से समझाया कि भगवान हमारे हर कर्म को देखते रहते हैं।

Hindi Kahani jo aapko Jine ki Sikh degi.

कुछ देर बाद अमन के घर में उसके जन्मदिन की पूजा शुरू हो गई। सारा परिवार पूजा में शामिल हो गया, परंतु अमन उदास-सा अपने कमरे में जा बैठा। कई बार बुलाने पर भी वो पूजा में शामिल नहीं हुआ। जब पूजा खत्म हो गई तो पुजारी जी ने अमन से उसकी उदासी का कारण पूछा। अमन ने कहा कि ऐसी पूजा का क्या फायदा, जिसको करने के लिये हम समाज के साथ भगवान को भी धोखा दे रहे हैं। एक तरफ तो मेरी मम्मी कहती हैं कि भगवान हर समय हमारे साथ रहते हैं और हमारी हर अच्छी-बुरी बात पर नज़र रखते हैं। दूसरी ओर मुझे झूठ बोलने और चोरी करने के लिये कहती हैं। आज हमने यह जो फूल चोरी करके भगवान को अर्पण किये हैं, क्या इसके बदले वो मुझे सच में कोई अच्छा-सा आशीर्वाद देंगे? पुजारी जी ने कहा कि आज तक तो मैं दुनिया को ज्ञान-ध्यान की बातें समझाता रहा हूं, परंतु आज इस नन्हे से बालक की बातें सुनकर मेरी भी आंखें खुल गई हैं। मैं वादा करता हूं कि आज से अपने हर प्रवचन में सभी भक्तजनों को यह बात जरूर समझाऊंगा कि यदि हम पेड़-पौधे लगा नहीं सकते तो हमें उन पर लगे हुए फूलों को तोड़ने का भी कोई हक नहीं बनता।

Achhikhabar hindi kahaniyan

अमन की बातों से प्रभावित होकर जौली अंकल भी यह प्रण लेते हैं कि आज के बाद मुझे जब भी ईश्वर के चरणों में फूल अर्पित करने होंगे तो मैं उन्हें अपनी मेहनत से लगाए हुए बगीचे से लाऊंगा या अपनी नेक कमाई से खरीदकर क्योंकि यह बात सच है कि भगवान चोरी की कोई भी चीज कभी स्वीकार नहीं करते फिर चाहे वो पूजा के फूल ही क्यों ना हों।

जो फूलों को बर्बाद करे वह किसी भी सूरत में बाग का रखवाला नहीं हो सकता।

Puja Ke Ful

 

Maa Ne Apne Betae Aman Ko Bade Hi Pyar Se Uthaakar, Use Uske Janmadin Ki Mubarkabad Dete Hue Kaha Ki Ab Jaldi Se Uth Jao, Dekhao Suraj Nikal Aaya Hai. Aman Ne Maa Se Kaha Ki Aapko Suraj Ke Jaldi Nikalne Ka To Malum Hai Lekin Aap Shayad Yah Nahin Janatin Ki Vo Sota Bhi To Mujhase Pehle Hai. Beta, Aaj Ghar Me Tere Janmadin Ki Puja Rkhavai Hai. Tu Jaldi Se Nahakar Mujhe Puja Ke Ful La De. Aman Ne Maskhari Karte Hue Puchha Ki Maa Kaun-Si Puja Ke Ful Chahiye, Puja Bedi Ke Ya Puja Bhatta Ke. Maa Ko Thoda Talkha Hote Hue Kahna Pada Ki Har Samay Mjak Accha Nahin Lgata. Tu Samane Vale Paark Se Acche-Acche Ful Todkar La De, Lekin Ek Baat Ka Dhyan Rkhana Ki Kaloani Ke Pradhan Vahan Na Baithe Han. Maa Agar Baithe Bhi Hon, To Humen Kya Phark Pdata Hai, Yah Paark Koi Unka Niji To Hai Nahin.

Hindi Story

 

Maa Ne Betae Ko Smajhaya Ki Yah Baat Nahin Hai. Asal Me Sare Bag-Bagiche Ki Dekharekha Pradhan Ji Hi Karte Hain. Vo Har Paudhe Ko Apne Bachhchon Ki Tarh Snbhalkar Paalate Hain. Isaliye Jab Koi Ful Todata Hai To Unhen Bahut Tkalif Hoti Hai. Phir Agar Vo Paark Me Baithe Han To Main Ful Kaise Todunga, Betae Ne Puchha? Maa Ne Kaha, ‘Tu Unhen Kisi Bahane Se Paark Ke Bahar Bhej Dena.’ Kuch Der Bad Jab Aman Paark Me Ful Todane Ke Liye Pahuncha To Usne Dekha Ki Pradhan Ji Samane Bainch Par Baithe Hue Hain. Aman Ne Hoshiyari Dikhate Hue Kaha Ki Ankal Aapko Ghar Me Bula Rahe Hain. Pradhan Ankal Jaldi Se Apne Ghar Ki Or Chale Gaye. Aman Ne Paark Se Acche-Acche Dher Sare Ful Todkar Apna Thaila Bhar Liya, Ghar Aate Hi Itane Khaushabudar Ful Dekhakar Aman Ki Mami Bahut Khaush Hui. Aman Ka Dhyan Jaise Hi Samane Pade Ladduon Ke Thal Ki Or Gaya To Usne Usme Se Jhat Ek Laddu Uthaa Liya. Usaki Mami Ne Kaha Ki Beta Yah Kya Kar Rahe Ho, Yah To Prasad Hai. Agar Tumane Yah Jhuthaa Kar Diya To Bhagwan Ji Naraj Ho Jayenge. Aman Ne Puchha, Lekin Bhagwan Ko Kaise Malum Padega Ki Maine Prasad Ke Thal Me Se Ek Laddu Kha Liya Hai. Mami Ne Pyar Se Smajhaya Ki Bhagwan Humare Har Karm Ko Dekhate Rahte Hain.

 

Best short stories in hindi, love story, motivational stories, whatsapp stories, short kids stories.

Kuch Der Bad Aman Ke Ghar Me Uske Janmadin Ki Puja Shuru Ho Gai. Sara Family Puja Me Shamil Ho Gaya, Parntu Aman Udas-Sa Apne Kamre Me Ja Baithaa. Kai Bar Bulane Par Bhi Vo Puja Me Shamil Nahin Huaa. Jab Puja Khatm Ho Gai To Pujaari Ji Ne Aman Se Usaki Udasi Ka Karan Puchha. Aman Ne Kaha Ki Aesi Puja Ka Kya Fayada, Jisako Karne Ke Liye Hum Samaj Ke Saath Bhagwan Ko Bhi Dhokha De Rahe Hain. Ek Tarf To Meri Mami Kahti Hain Ki Bhagwan Har Samay Humare Saath Rahte Hain Aur Humari Har Acchi-Buri Baat Par Njr Rkhate Hain. Dusiri Or Mujhe Jhuth Bolane Aur Chori Karne Ke Liye Kahti Hain. Aaj Humne Yah Jo Ful Chori Karke Bhagwan Ko Arpn Kiye Hain, Kya Iske Bdale Vo Mujhe Sacch Me Koi Accha-Sa Aashirvad Denge? Pujaari Ji Ne Kaha Ki Aaj Tak To Main Duniya Ko Gyan-Dhyan Ki Baaten Smajhata Raha Hun, Parntu Aaj Is Nadhe Se Baalk Ki Baaten Sunkar Meri Bhi Aankhen Khaul Gai Hain. Main Vada Karta Hun Ki Aaj Se Apne Har Pravchan Me Sabhi Bhaktjanon Ko Yah Baat Jarur Smajhaunga Ki Yadi Hum Ped-Paudhe Laga Nahin Sakte To Humen Un Par Lage Hue Fulon Ko Todane Ka Bhi Koi Hak Nahin Bnata.

inspirational Hindi Stories

Aman Ki Baaton Se Prabhavit Hokar Jauli Ankal Bhi Yah Pran Lete Hain Ki Aaj Ke Bad Mujhe Jab Bhi Ishvar Ke Charnon Me Ful Arpit Karne Honge To Main Unhen Apni Mehnat Se Lagae Hue Bagiche Se Launga Ya Apni Nek Kamai Se Kharidkar Kyonki Yah Baat Sacch Hai Ki Bhagwan Chori Ki Koi Bhi Chij Kabhi Svikar Nahin Karte Phir Chahe Vo Puja Ke Ful Hi Kyon Na Hon.

बच्चों की कहानियाँ, kid’s stories, stories for

Best Moral Stories In Hindi – शिक्षाप्रद कहानियां

Jo Fulon Ko Barbad Kare Vah Kisi Bhi Surat Me Bag Ka Rkhavala Nahin Ho Skata.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *