Home / Health Tips / पपीता के फायदे : जाने कैसे पपीता खाने से पुत्र जन्मता है?

पपीता के फायदे : जाने कैसे पपीता खाने से पुत्र जन्मता है?

papita ke faayde

पपीता (PAPAYA) लेटिन नाम-केरिका पपाया (carica papaya)

होम्योपैथी में पपीता से बनी औषधि केरिका पपाया नाम से प्रयोग की जाती है। पपीता भोजन के पहले खाना चाहिए। पाचन संस्थान के रोगों में पपीता खाना उपयोगी है। पपीता खाने का समय–प्रातः पपीता खाना अधिक लाभदायक है। इससे भूख अच्छी लगती है, कब्ज़ दूर होती है। दोपहर में खाना खाने के बाद पपीता खाने से भोजन का पाचन अच्छा होता है। शाम को भी भूख लगी हो तो पपीता खायें। पपीता नित्य खाने से स्वास्थ्य अच्छा रहता है। पपीते का सेवन बुढ़ापे में शक्ति बनाये रखता है, बुढ़ापे की दुर्बलताओं को रोकता है। – पोषक तत्त्वों की दृष्टि से पपीते में 0.6% प्रोटीन तथा 0.5% खनिज पाये जाते हैं। पपीते में विटामिन ए की मात्रा सेब, अंगूर, लीची, अनार से 20 गुणा से भी अधिक होती है। इसके अलावा विटामिन, थायोमिन, राइबोफ्लोविन, तथा नियासिन भी इसमें पाये जाते हैं। इसके फलों में एक प्रकार का एन्जाइम पाया जाता है, जिसे ‘पपेन’ कहते हैं, जो प्रोटीन के पाचन में सहायक होता है। पपेन का उपयोग दवा के रूप में किया जाता है। औषधियों के दुष्प्रभाव, जो अत्यधिक औषधियाँ खाने, निरन्तर दवाइयाँ लेते रहने से उत्पन्न होते हैं, पपीता खाने से दूर हो जाते हैं। डिप्थीरिया (Diptheria), टेपवर्म होने पर पका हुआ पपीता खाना लाभदायक है। कैंसर व टी.बी. रोग में पपीता खाना लाभदायक है। मूत्रल-पपीता खाने से पेशाब अधिक आता है। जहाँ पेशाब अधिक लाना हो, पपीता खिलायें। =-warrang (High Blood Pressure)–fra Tā. भूखे पेट चार फॉक (250 ग्राम) पका हुआ पपीता दो-तीन महीने खाते रहें। उच्च रक्तचाप ठीक हो जायेगा।

 

पुत्रोत्पति वैज्ञानिकों के अनुसार पपीते में प्लेटिनम होता है जो पुत्र उत्पन्न करने कै जीन बढ़ाता है। पुत्र चाहने वाले दम्पति पपीता खायें। पति गर्भाधान के तीन माह पहले से ही 200 ग्राम पपीता नित्य खायें। पत्नी गर्भाधान के बाद तीन माह नित्य 100 ग्राम पपीता खायें। इससे अधिक नहीं खायें। पति, पत्नी दोनों ही इस अवधि में मीठा नहीं खायें। मिठाई का परहेज रखें। बछड़े वाली लाल गाय का दूध तीन माह पियें। लाल या काली साड़ी पहने और कमर पर नित्य धूप डालें। इससे 92% पुत्र-जन्म की सम्भावना होती है। मासिक-धर्म अनियमित है, बन्द है, देर से या जल्दी आता है, मासिक स्राव में दर्द होता है तो पपीते के सूखे बीज पीसकर आधा-आधा चम्मच सुबह-शाम गर्म पानी के साथ फंकी मासिक-स्राव आने के एक सप्ताह पहले से आरम्भ करके मासिक-धर्म का स्राव बन्द होने तक दो-तीन महीने लेते रहने से मासिक-धर्म के दोष दूर होकर मासिक-धर्म ठीक आने लगता है। नित्य कच्चे पपीते की सब्जी खाने से मासिक-धर्म नियमित आने लगेगा। गर्भपात-दक्षिण भारत की औरतों का विश्वास है कि पपीते में गर्भ गिराने के शक्तिशाली गुण हैं। 

 

खाज, दाद व बिच्छू काटने पर-पपीते का दूध लगाने से लाभ होता है। दस्त-कच्चा पपीता उबालकर खाने से पुराने दस्त ठीक हो जाते हैं। कमर का सौंदर्य-लम्बे समय तक नित्य पपीता खाने से कमर का सौंदर्य बढ़ता है। चेहरे का सौंदर्य-पके हुए पपीते का गूदा कुछ सप्ताह चेहरे पर मलने से झाँइयाँ व मुँहासे साफ हो जाते हैं। | मुख-सौंदर्य-आधा पका पपीता पीसकर चेहरे पर नित्य लेप करके एक घण्टे बाद धोयें। प्रातः भूखे पेट पपीता खायें। कील, मुँहासे, झुर्रियाँ दूर होकर चेहरा सुन्दर हो जायेगा। ऐसा दो माह करें। कब्ज़—प्रातः पपीता खाकर दूध पीने से कब्ज़ दूर होता है। कब्ज़, अजीर्ण और रक्तस्रावी बवासीर में पका हुआ पपीता लाभदायक है। पपीता भूखे पेट खायें। – कृमि-पपीते के दस बीज पानी में पीसकर चौथाई कप पानी में मिलाकर पीने से पेट के कीड़े मर जाते हैं। यह नित्य सात दिन लें। पथरी—पपीते के पेड़ की जड़ को छाया में सुखाकर छोटे-छोटे टुकड़े कर पीस लें। इसकी दो चम्मच रात को आधा गिलास पानी में भिगो दें। प्रात: छानकर उस पानी को पी जाये। 21 दिन में पेशाब के साथ पथरी बाहर आ जायेगी।

 

PAPITA (PAPAYA) LETAIN NAM-KERIKAA PAPAYA (CARICA PAPAYA)

 

HOMEOPATHY ME PAPITA SE BANI AUSHADHI KERIKAA PAPAYA NAM SE PRAYOG KI JATI HAI. PAPITA BHOJAN KE PEHLE KHANA CHAHIEY. PAACHAN SNSTHAN KE ROGON ME PAPITA KHANA UPYOGI HAI. PAPITA KHANE KAA SAMAY–PRATः PAPITA KHANA ADHIK LABHADAYAK HAI. ISSE BHUKHA ACCHI LGATI HAI, KABJ DUR HOTI HAI. DOPAHR ME KHANA KHANE KE BAD PAPITA KHANE SE BHOJAN KAA PAACHAN ACCHA HOTA HAI. SHAM KO BHI BHUKHA LAGI HO TO PAPITA KHAYEN. PAPITA NITY KHANE SE SVASTHY ACCHA RAHTA HAI. PADITE KAA SEVEN BUDHAPE ME SHAKTI BANAYE RKHATA HAI, BUDHAPE KI DURBALTAON KO ROKATA HAI. – POSHAK TADTVON KI DRSHATAI SE PADITE ME 0.6% PROTIN TATHA 0.5% KHANIJ PAAYE JATE HAIN. PADITE ME VITAMIN E KI MATRA SEB, ANGUR, LICHI, ANAR SE 20 GUNAA SE BHI ADHIK HOTI HAI. ISKE ALAVA VITAMIN, THAYOMIN, RAIBOFLOVIN, TATHA NIYASIN BHI ISAMEN PAAYE JATE HAIN. ISKE PHALON ME EK PRAKAR KAA ENJAIM PAAYA JATA HAI, JISE ‘PADEN’ KAHTE HAIN, JO PROTIN KE PAACHAN ME SAHAYAK HOTA HAI. PADEN KAA UPYOG DAVA KE RUP ME KIYA JATA HAI. AUSHADHIYON KE DUSHAPRABHAV, JO ATYADHIK AUSHADHIYAN KHANE, NIRANTAR DAVAIYAN LETE RAHNE SE UTPANN HOTE HAIN, PAPITA KHANE SE DUR HO JATE HAIN. DIPTHIRIYA (DIPTHERIA), TAEPAVRM HONE PAR PAKA HUAA PAPITA KHANA LABHADAYAK HAI. KAINSIR V TI.B ROG ME PAPITA KHANA LABHADAYAK HAI. MUTRAL-PAPITA KHANE SE PESHAB ADHIK AATA HAI. JAHAN PESHAB ADHIK LANA HO, PAPITA KHAILAYEN. =-WARRANG (HIGH BLOOD PRESSURE)–FRA TĀ. BHUKHE PETA CHAR FOK (250 GRAM) PAKA HUAA PAPITA DO-TIN MAHINE KHATE RAHEN. UCHCH RAKTACHHAP THIK HO JAYEGA.

 

 

 

PUTROTPATI VAIGYANIKON KE ANUSAR PADITE ME PLETAINAM HOTA HAI JO PUTR UTPANN KARNE KAI JIN BADHATA HAI. PUTR CHAHANE VALE DAMPATI PAPITA KHAYEN. PATI GARBHADHAN KE TIN MONTH PEHLE SE HI 200 GRAM PAPITA NITY KHAYEN. PATNI GARBHADHAN KE BAD TIN MONTH NITY 100 GRAM PAPITA KHAYEN. ISSE ADHIK NAHIN KHAYEN. PATI, PATNI DONO HI IS AVADHI ME MITHAA NAHIN KHAYEN. MITHAAI KAA PARHEJ RAKHEN. BCHHADE VALI LAL GAY KAA DUDH TIN MONTH PIYEN. LAL YA KAALI SADI PAHNE AUR KAMR PAR NITY DHUP DAALEN. ISSE 92% PUTR-JANM KI SAMBHAONEA HOTI HAI. MASIK-DHARM ANIYAMIT HAI, BAND HAI, DER SE YA JALDI AATA HAI, MASIK DISCHARGE ME DARD HOTA HAI TO PADITE KE SUKHE BIJ PISKAR AADHA-AADHA CHAMMACH SUBAH-SHAM GARM PAANI KE SATH FNKI MASIK-DISCHARGE AANE KE EK SAPTAH PEHLE SE AARAMBH KARKE MASIK-DHARM KAA DISCHARGE BAND HONE TAK DO-TIN MAHINE LETE RAHNE SE MASIK-DHARM KE DOSHA DUR HOKAR MASIK-DHARM THIK AANE LGATA HAI. NITY KACHCHE PADITE KI SABJI KHANE SE MASIK-DHARM NIYAMIT AANE LAGEGA. GARBHAPAT-DAKSHAIN BHARAT KI AURATON KAA VISHVAS HAI KI PADITE ME GARBH GIRANE KE SHAKTISHALI GUN HAIN.

 

 

 

KHAJ, DAD V BICHCHHU KAATANE PAR-PADITE KAA DUDH LAGANE SE LABH HOTA HAI. DAST-KACHCHA PAPITA UBALKAR KHANE SE PURANE DAST THIK HO JATE HAIN. KAMR KAA SAUNDARY-LAMBE SAMAY TAK NITY PAPITA KHANE SE KAMR KAA SAUNDARY BADHTA HAI. FACE KAA SAUNDARY-PAKE HUE PADITE KAA GUDA KUCH SAPTAH FACE PAR MALNE SE JHANIYAN V MUNHASE SAF HO JATE HAIN. | MUKHA-SAUNDARY-AADHA PAKA PAPITA PISKAR FACE PAR NITY LEP KARKE EK GHANTAE BAD DHOYEN. PRATI BHUKHE PETA PAPITA KHAYEN. KIL, MUNHASE, JHURRIYAN DUR HOKAR CHEHARA SUNDAR HO JAYEGA. AESA DO MONTH KAREN. KABJ—PRATः PAPITA KHAKAR DUDH PINE SE KABJ DUR HOTA HAI. KABJ, AJIRN AUR RAKTDISCHARGEI BAVASIR ME PAKA HUAA PAPITA LABHADAYAK HAI. PAPITA BHUKHE PETA KHAYEN. – KRMI-PADITE KE DAS BIJ PAANI ME PISKAR CHAUTHAI KAP PAANI ME MILAKAR PINE SE PETA KE KIDE MAR JATE HAIN. YAH NITY SAT DIN LEN. PTHARI—PADITE KE PED KI JAD KO CHHAYA ME SUKHAKAR CHHOTAE-CHHOTAE TAUKADE KAR PIS LEN. ISAKI DO CHAMMACH RAT KO AADHA GLASS PAANI ME BHIGO DEN. PRAT: CHHANKAR US PAANI KO PI JAYE. 21 DIN ME PESHAB KE SATH PTHARI BAHAR AA JAYEGI.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *