Home / Hindi Story / प्रोत्साहन है जरुरी

प्रोत्साहन है जरुरी

हिंदी कहानी : किसी को मोटीवेट करना अच्छी बात होती उसी पर आधारित यह Story है.

कमल ने एक बार विकास को उसके परिवार के साथ अपने घर खाने पर बुलाया। उसने विकास को अपने बेटे से मिलवाया।

जब विकास ने उससे उसके शौकों के बारे में पूछा तो बच्चा बेहद उत्साह से फुटबॉल आदि के बारे में बताने लगा। तभी कमल ने उसे टोककर उसके गणित के अंकों पर बात करने के लिए कहा। दोनो के बच्चे अंदर खेलने चले गए तो कमल ने विकास को बताया- इसका ध्यान खेलकूद में ज्यादा है। परेशान हो गया हूं।

अब मैंने इसकी दो-दो टयूशन लगवा दी हैं। न फालतू वक्त होगा, न ध्यान भटकेगा। कुछ समय बाद कमल का परिवार विकास के घर आया तो विकास ने अपने बेटे को बुलाकर गिटार बजाने के लिए कहा। इतना सुंदर गिटार सुनकर कमल हैरान रह गया। तब विकास बोला- दोस्त, बच्चों को प्रोत्साहन की जरुरत होती है।

इनकी पसंद को प्रोत्साहन दोगे तो पढ़़ाई में भी इनका मन लगेगा। मेरा बेटा गिटार तो बजाता ही है, अपनी कक्षा में अच्छे अंक भी लाता है।

यदि मैं इसके शौक की कद्र करनो छोड़ दूंगा तो यह भी मेरी उम्मीदों को कोई खास तवज्जों नहीं दे पाएगा। कमल को विकास की बात का मूल समझ आ गया था।

दोस्तों इस हिंदी कहानी(Hindi Story) से हमें शिक्षा तो मिलती है मगर आपको भी ये महसूस होता होगा  बच्चों के शौक को प्रोत्साहन दें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *