Home / Uncategorized / मैं Blogger से WordPress में क्यों आया?

मैं Blogger से WordPress में क्यों आया?

दोस्तों आपने महसूस किया होगा कि ये तो ब्लॉगर नहीं लगता तो आपको सही लगता है मैंने अब AKS को WordPress पर ट्रान्सफर कर दिया है.

क्यों किया ?

ऐसा नहीं है कि ब्लॉगर मुझे अच्छा नहीं लगता बल्कि ब्लॉगर तो मुझे बहुत अच्छा लगता है लेकिन क्या करू मैं आपकी सहायता को एक ब्लॉग ना बनाकर पोर्टल बनाना चाहता हू यानी एक ऐसी वेबसाइट जिस पर किसी एक सब्जेक्ट से समन्धित ज्ञान ना होकर हर तरह का ज्ञान हो.

तो क्या ये ब्लॉगर में नहीं हो सकता?

हो सकता है लेकिन दोस्तों कुछ एक सिस्टम जैसे Plugins जोड़ना जो ब्लॉगर में नहीं जोड़ सकते है यानी हम मनचाह काम नहीं कर सकते है और दूसरी सबसे बड़ी बात है ये है कि Blogger SEO की नजर से ठीक है लेकिन एक पोर्टल के लिए ब्लॉगर ठीक नहीं है.

क्या ब्लॉगर को छोड़ दूंगा?

नहीं दोस्तों जैसा कि सब जानते है ब्लॉगर गूगल का प्रोडक्ट है इसकी सुविधाओ का कोई अंत नहीं इसलिए मैं ब्लॉगर को नहीं छोड़ सकता है अब मैं सोच रहा हू कि ब्लॉगर में एक दूसरी वेबसाइट बनाऊ.

क्या मुझे कोई हानि हुई है ब्लॉगर से WordPress में आने से?

हां दोस्तों मुझे हानि तो बहुत हुई क्योंकी मेरी वेबसाइट जो लगभग 2 साल में सर्च इंजन में रैंक बनायीं थी वो मैं लगभग खो दी है लेकिन अगर मन में जोश और होसला है तो आपकीसहायता को हिंदी का सबसे बड़ा पोर्टल बनाने में वक्त नहीं लगेगा. मुझे इसमें आपका साथ चाहिए कैसे? बस आपका साथ इतना की आप इस ब्लॉग को शेयर कीजिए.

कैसे करें?

शेयर करने के लिए बहुत सारे आप्शन है जैसे Facebook, Twitter, Google Plus पर इसके अलावा भी एक और तरीका है वो है Mouth Share 

Mouth Share क्या होता है?

जैसा की नाम से स्पस्ट है आप को अगर इस वेबसाइट पर कुछ अच्छा लगे तो आप अपने दोस्तों अपने परिवार या किसी भी अपने से शेयर जरुर करेंगे.

इसी के साथ दोस्तों आज इतना ही लिखूंगा अगर कभी मौका मिलेगा तो आपको Blogger से WordPress और WordPress से हिंदी का सबसे बड़ा पोर्टल की कहानी जरुर शेयर करूँगा.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *