Home / Uncategorized / प्रसंस्करण उद्योग

प्रसंस्करण उद्योग

प्रसंस्करण उद्योग
फलों व सब्जियों से
कई प्रकार के खाद्य-पदार्थ बनाकर अधिक लाभ कमाया जा सकता है। फलों से अचार,
शर्बत, रस, मुरब्बा,
जैम, जैली, साॅस,
स्क्वैश, चटनी एवं टमाटर के फलों से कैचप, साॅस, चटनी, प्यूरी, पेस्ट आदि कई प्रकार के खाद्य पदार्थ बनाये
जाते है। गाजर, पेठा, लौकी, परवल आदि कई सब्जियों से कुछ मिठाईयां बनाई जाती है। आगरा के पास पेठा से
बनाई जाने वाली मिठाई को काफी पसन्द किया जाता है तथा इस प्रकार एक लघु उद्योग भी
काम कर रहा है। फूलगोभी, करेला,
परवल, कुन्दरू, मिर्च आदि से अचार बनाया जाता है। लहसुन, प्याज, अदरक,
पुदीना, करेला, चैलाई
आदि सब्जियाँ पौष्टिक होने के साथ औषधीय गुणों से भरपूर है। इनके कई प्रकार के
पदार्थ बनाकर इनकी बिक्री कीमत बढ़ाई जा सकती है। प्याज व मेथी को छोटे टुकड़ों
में काटकर तथा सुखाकर मसाले की तरह बेचा जा सकता है। खरबूजे व खीरे के बीजों को कई
तरह की मिठाईयांे में एवं इसके अतिरिक्त ठंडे शर्बतों मंे प्रयोग किया जाता है।
तरबूत व खरबूजे के रस को निकालकर पेय पदार्थ की तरह प्रयोग किया जा सकता है। कई
सब्जियों (कद्दू, खरबूजा,
तरबूज, करेला आदि) के बीजों में वसा (तेल) की मात्रा पाई जाती
है तथा इनसे खाद्य तेल निकाले जा सकते है। मिर्च से तीखा पदार्थ (ओलीरियोसीन) द्रव्य
के रूप में निकालकर विदेशी मुद्रा कमाई जा सकती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *