Home / Uncategorized / मानव का उदभव और विकास

मानव का उदभव और विकास

मानव का उदभव और विकास

लगभग 15 मिलियन वर्ष पूर्व ड्रायोपिथिकस तथा रामापिथिकस नामक नर वानर विद्यमान थे। इन
लोगों के शरीर बालों से भरपूर थे तथा गोरिल्ला एवं चिपैंजी जैसे चलते थे। रामापिथिकस
अधिक मनुष्यों जैसे थे जबकि ड्रायोपिथिकस वन मानुष (ऐप) जैसे थे।
इथोपिया तथा तंजानिया में कुछ जीवाश्म (फासिल) अस्थियाँ मानवों जैसी प्राप्त
हुई हैं। ये जीवाश्म मानवी विशिष्टताएँ दर्शाते हैं जो इस विश्वास को आगे बढ़ाती हैं
कि 3-4 मिलियन
वर्ष पूर्व मानव जैसे नर वानर गण (प्राइमेट्स) पूर्वी-अप्रफीका में विचरण करते रहे थे। ये लोग
संभवतः ऊँचाई में 4 पुफट से बड़े नहीं थे किन्तु वे खड़े होकर सीधे चलते थे। लगभग 2 मिलियन वर्ष पूर्व ओस्ट्रालोपिथेसिन
(आदिमानव) संभवतः
पूर्वी अप्रफीका के घास स्थलों में रहता था। साक्ष्य यह प्रकट करते हैं कि वे प्रारंभ
में पत्थर के हथियारों से शिकार करते थे, किन्तु प्रारंभ में पफलों का ही भोजन करते थे। खोजी गई
अस्थियों में से कुछ अस्थियाँ बहुत ही भिन्न थीं। इस जीव को पहला मानव जैसे प्राणी
के रूप में जाना गया और उसे होमो हैबिलिस कहा गया था। उसकी दिमागी क्षमता 650-800 सीसी के बीच थी। वे संभवतः
माँस नहीं खाते थे। 1991 में जावा में खोजे गए जीवाश्म ने अगले चरण के बारे मे भेद प्रकट
किया। यह चरण था होमो इरैक्टस जो 1.5 मिलियन वर्ष पूर्व हुआ। होमो इरैक्टस का मस्तिष्क बड़ा
था जो लगभग 900 सीसी का था । होमो इरैक्टस संभवतः माँस खाता था। नियंडरटाल मानव 1400 सीसी आकार वाले मस्तिष्क
लिए हुए, 100,000 से 40,000 वर्ष पूर्व लगभग पूर्वी एवं मध्य एशियाई देशों में रहते थे। वे अपने
शरीर की रक्षा के लिए खालों का इस्तेमाल करते थे और अपने मृतकों को जमीन में गाड़ते
थे। होमो सैंपियंस (मानव) अफ्रीका में विकसित हुआ और
धीरे-धीरे महाद्वीपो से पार पहुँचा था तथा विभिन्न महाद्वीपों में फैला था,
इसके बाद वह
भिन्न जातियों में विकसित हुआ। 75,000 से 10,000 वर्ष के दौरान हिमयुग में यह आधुनिक युगीन मानव पैदा
हुआ। मानव ने प्रागैतिहासिक गुपफा-चित्रों की रचना लगभग 8,000 वर्ष पूर्व हुई। कृषि कार्य
लगभग 10,000 वर्ष पूर्व आरंभ हुआ और मानव बस्तियाँ बनना शुरू हुईं। बाकी जो कुछ हुआ वह मानव
इतिहास या वृध्दि का भाग और सभ्यता की प्रगति का हिस्सा है।

One comment

  1. So helpfull

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *