Home / Uncategorized / चोकाने वाले आकड़े

चोकाने वाले आकड़े

चोकाने वाले आकड़े 

92% स्त्रियाँ
दुसरे जन्म में भी वही पति चाहती है।
यानी प्रतिव्रता
8%महिलाओ के
मुकाबले 14% पुरुष अपनी
शादी की सालगिरह भूल जाते है।
यानी तेज याददाश्त
40% महिलाये किसी
बजी यात्रा पर जाने से वहां की पूरी जानकारी लेती है, जबकि पुरुषं का आंकड़ा 27.8% है।
यानी दुरदिर्शिता
महिलाये पुरुषो के मुकाबले नों गुना ज्यादा अकेले,अभिभावक की
जिम्मेदारी उठाने में सक्षम है।
यानी बेहतर पालक
75% महिलाये
ड्राविंग के वक्त सीट बेल्ट बांधती है जबकि इस नियम का पालन करने वाले पुरुष 62% है।
यानी अनुशासित
स्वास्थ्य और सामाजिक सेवाओं में 31% पुरुषों के मुकाबले 69% महिलाये कार्यरत है।
यानी ज्यादा
जिम्मेदार
80% महिलाये व 55% बहार से घर आने के
बाद हाथ धोते है।
यानी सफाई के प्रति
सजग
12% पुरुष व 23% महिलाये कार्य के
दोरान इन्टरनेट का प्रयोग करते है।
यानी नई टेक्नोलॉजी
में भी आगे
मनोवैज्ञानिक अध्यन से बताते है कि हादसा होने पर पुरुष के अपेक्षा
महिलाये सामान्य रहती है।
यानी धेर्यवान
45% पुरुष व 75% महिलाये अपना बिस्तर
खुद लगाते है।
यानी दिन के अंतिम
क्षण की मेहनती
एक सर्वे के अनुसार महिलाये समूह के नेत्रत्व में ज्यादा सक्षम है क्योंकि
वो आपको साथ लेकर चलती है।
यानी सहभागिता में
विश्वास।

अनोखे सच्च
खरगोश और तोता – दो ऐसे
प्राणी है, जो अपना सिर बिना मोड़े पीछे देख सकते है।
हिप्पोपटेमस – इन्सान से
ज्यादा दोड़ सकता है।
घोंघा- लगातार तीन साल तक सो सकता है
मधुमक्खी, मच्छर – जैसे कीड़ो की
आवाज उनके मुह से नहीं बल्कि उनके परों के फडफडाने से होती है।
24 कैरेट सोना-
शुद्ध नहीं होता। उसमे बहुत थोड़ी मात्रा में तांबा मिला होता है। पूर्ण शुद्ध सोना
इतना शुद्ध होता है कि हाथ से मरोड़ा जा सके।

One comment

  1. वहा वहा क्या ऐसा भी होता है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *